G06, (ख) ध्यान योग का सही स्वरूप,नासाग्र संकेत -महर्षि मेंहीं - SatsangdhyanGeeta

Ad1

Ad4

G06, (ख) ध्यान योग का सही स्वरूप,नासाग्र संकेत -महर्षि मेंहीं

श्रीगीता-योग-प्रकाश / 6 (ख)

प्रभु प्रेमियों ! श्रीमद्भागवत गीता की महिमा के बारे में धर्मशास्त्रों में लिखा है-"गीताशास्त्रमिदं _ पुण्यं॑ यः पठेत्प्रयतः पुमान्‌।विष्णो: पदमवाप्रोति भयशोकादिवर्जित: ॥ १॥"जो मनुष्य शुद्धचित्त होकर प्रेमपूर्वक इस पवित्र गीताशास्त्रका पाठ करता है, वह भय और शोक आदिसे रहित होकर विष्णुधामको प्राप्त कर लेता है॥१॥"गीताध्ययनशीलस्य प्राणायामपरस्य च।नेव सन्ति हि पापानि पूर्वजन्मकृतानि च॥२॥"जो मनुष्य सदा गीताका पाठ करनेवाला है तथा प्राणायाममें तत्पर रहता है, उसके इस जन्म और पूर्वजन्ममें किये हुए समस्त पाप नि:सन्देह नष्ट हो जाते हैं॥२॥

इस पोस्ट को पढ़ने से आप निम्नांकित सवालों के जवाबों में से कुछ-न-कुछ का समाधान अवश्य पाएंगे। जैसे- ध्यान का समय, गीता के अनुसार ध्यान,गीता क्या है? संपूर्ण गीता ज्ञान,भगवत गीता का ज्ञान,गीता में ध्यान,ध्यान योग,ध्यान योग के प्रकार,ध्यान के आसन,गीता मोक्ष,ध्यान योग कैसे करे,Dhyan Yog in Hindi,ध्यान कैसे करना है?ध्यान करने के लिए सबसे उपयुक्त आसन कौन सा है?ध्यान आसन क्या है?योग और ध्यान में क्या अंतर है?ध्यान योग के प्रकार,ध्यान योग कैसे करे?ध्यान योग के फायदे, ध्यान योग विधि,ध्यान क्रिया,ध्यान साधना,भगवद गीता ध्यान योग,ध्यान की व्याख्या, इत्यादि बातें।


गुरुदेव सुखासन में
गुरुदेव सुखासन में

ध्यान योग का सही स्वरूप,नासाग्र क्या है?

संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) पुस्तक "श्री गीता योग प्रकाश" के अध्याय G06, (ख) में बताया गया है कि ध्यान योग का सही स्वरूप क्या है ? ध्यान योग में नासाग्र कहां है? ध्यान योग विशेष है या अन्य हठयोग बगैरह। ध्यान योग कैसे करना चाहिए? बाहरी आडंबरों से बचकर ध्यान का सही स्वरूप समझने के लिए निम्नांकित लेख पढ़ेंं-

इस लेख के पहले भाग को पढ़ने के लिए      यहां दबाएं

गीता अध्याय 6, चित्र 6
गीता अध्याय 6, चित्र 6

गीता अध्याय 6 चित्र 7
गीता अध्याय 6 चित्र 7

गीता अध्याय 6 चित्र 8
गीता अध्याय 6 चित्र 8

गीता अध्याय 6 चित्र 9
गीता अध्याय 6 चित्र 9

गीता अध्याय 6 चित्र 10
गीता अध्याय 6 चित्र 10

इस लेख के शेष भाग को पढ़ने के लिए        यहां दबाएं
 

प्रभु प्रेमियों ! गुरु महाराज के भारती पुस्तक "श्रीगीता योग प्रकाश" के इस लेख का पाठ करके आपलोगों ने जाना कि ध्यान योग का सही स्वरूप क्या है ? ध्यान योग में नासाग्र कहां है? इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस प्रवचन के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले प्रवचन या पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। निम्नलिखित वीडियो में उपर्युुुुक्त लेख का पााठ किया गया है । उसे सुनें देंंखेें- 


अगर आप इस पूरी पुस्तक के बारे में और जानकारी चाहते हैं तो निम्न चित्र पर दवाएं या  यहां दबाएं
G02, (ख) What is the numerical sum of Shrimad Bhagwat Geeta - सद्गुरु महर्षि मेंही


G06, (ख) ध्यान योग का सही स्वरूप,नासाग्र संकेत -महर्षि मेंहीं G06, (ख) ध्यान योग का सही स्वरूप,नासाग्र संकेत -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/28/2018 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रभु-प्रेमी पाठको ! ईश्वर प्राप्ति के संबंध में ही चर्चा करते हुए कुछ टिप्पणी भेजें। श्रीमद्भगवद्गीता पर बहुत सारी भ्रांतियां हैं ।उन सभी पर चर्चा किया जा सकता है।
प्लीज नोट इंटर इन कमेंट बॉक्स स्मैम लिंक

Ad3

Blogger द्वारा संचालित.